संपादकीय
राजनीति की नायिका : जयललिता
title=

नई दिल्ली(श्रध्दा चतुर्वेदी): नेताओं के प्रति उनके समर्थकों का स्नेह, सम्मान और भावुक होना एक आम बात है, लेकिन जब ये प्यार और भावुकता , दीवानगी का रुप ले लेती है तो यह राजनेता व उसकी राजनीति को वो मुकाम दिलाती है कि वो सदा के लिए अमर हो जाता है। जयललिता एक ऐसी ही शख्सियत थी।
भारतीय राजनीति में शायद ही कोई ऐसा नेता हो जो जयललिता की तरह अपने राज्य का एक ब्रांड़ हो। लेकिन ब्रांड और लोगो को अपना दीवाना बनाने की राह जयललिता के लिए आसान नहीं थी। फिल्मी दुनिया से राजनीति में कदम रखने वाली जयललिता अनेक भाषाओं का ज्ञान रखने के साथ साथ कत्थक, मोहीनीअट्टम, मणिपुरी नृत्य करने व शास्त्रीय संगीत तथा पियानो बजाने में निपुण थी।
इनकी पहली फिल्म 1965 में आयी तमिल फिल्म थी, जिसे ए ग्रेड़ मिला और यह फिल्म 100 दिनों तक सिनेमाघरों में छायी रही। लेकिन जयललिता खुद इस फिल्म को नहीं देख पायी क्योकि तब वह महज 17 साल की थी।जयललिता पहली स्कर्ट पहनने वाली अभिनेत्री ओर राज्य की पहली महिला मुख्यमंत्री बनी। 1966 में सबसे ज्यादा फीस लेने वाली नायिका तथा 1964 से 1980 तक सबसे ज्यादा पैसा कमाने वाली अदाकारा रहीं। अपने फिल्मी करियर में इन्होने 7 फिल्म फेयर तथा 6 तमिलनांडु सिनेमा फैन अवॅार्ड प्राप्त किय़े।
जयललिता ने राजनीति की शुरुआत अपने राजनैतिक गुरु व मित्र एमजी रामचंद्रन के सानिध्य में की। रामचंद्रन उस समय के मुख्यमंत्री थे और जनता में उनका अपना वर्चस्व था। लेकिन जया को पूरी राजनीति थाली में परोसी हुयी नही मिली। एमजी की मृत्यु के बाद, उनकी पत्नी और पार्टी का एक हिस्से पूरी तरह से जयललिता के खिलाफ था। उनको बहुत तकलीफों और अपमान के साथ राजनैतिक हक की लड़ाई लड़नी पड़ी। जिसमें अंततः जयललिता को सफलता मिली। जयललिता ब्राम्हणों के खिलाफ देश में पहले आन्दोलन का नेतृत्व करने वाले राज्य की, पहली ब्राह्मण मुख्यमंत्री बनी और जयलिलता से अम्मा बनने तक के सफर को पूरी सिद्दत के साथ निभाया।
किक्रेट की शौक़ीन, अम्मा का मानाना था कि यह एक महिला प्रधान खेल है जिसे वकिंघम पैलेस के राजघराने की मुहिलाओं ने अपना बोरियत को दूर करने व स्वस्थ रहने के लिए शुरु किया था। राज्य में अम्मा काफी लोकप्रीय थी खासकर की महिलाओं में। जिसका कारण उनके द्वारा शुरु की गयी लगभग 18 योजनाओं थी जिन्होने उन्हें अम्मा ब्रांड और देश में सबसे लोकप्रिय नेता बना दिय़ा। उनकी योजनाओं में अम्मा कैंटीन सबसे प्रमुख है, जहां मात्र 1 रुपये से लेकर 5 रूपये में खाना मिलता है। इसके अलावा गोल्ड फोर मेरिज स्कीम,
क्रेडल टू बेबी स्कीम, अम्मा वॅाटर,
अम्मा लेपटॅाप, अम्मा सीमेंट आदि भी महत्वपूर्ण स्कीमे है जिन्होंने गरीब तबके को समर्थ्य बनाया है।
अम्मा द्वारा किये गए इन सभी कामों ने अम्मा को राज्य का सबसे चहेता नेता बना दिया, इतना चहेता कि जब सुप्रीम कोर्ट द्वारी उन्हें घोटाले व अधिक संपत्ति के कारण सजा सुनायी गयी थी, तो 193 लोगों ने अपनी जान दे दी थी।
हमारे बाद की पीढी यह शायद कभी न माने कि अम्मा अपने जमाने की इतनी लोकप्रिय नेता थी.......लेकिन यह अम्मा द्वारा बनाया गया एक सत्य है जिसे झुठलाया नहीं जा सकता है। गरीब तबके के लिए किये उनके कार्य उन्हें महान बनाते है, उम्मीद है देश के सभी कोनों में राजनेता पैदा होंगे जो गरीबों और पिछडो के बारे में सबसे पहले सोचेगे और जनता उन्हें प्यार से अम्मा या अन्ना बुलाएगी।

  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • captcha
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें,हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।