राज्यों से
प्रदेश में पर्यटन के क्षेत्र में राष्ट्रीय स्तर का प्रशिक्षण संस्थान बनेगा: शिवराज

 भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पर्यटन के क्षेत्र में प्रशिक्षण और कौशल विकास के लिए प्रदेश में राष्ट्रीय स्तर के संस्थान की स्थापना की जाएगी। प्रदेश में पर्यटन को उद्योग का दर्जा दिया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने यह बात राजधानी भोपाल में शनिवार को एम.पी.ट्रेवल मार्ट के तृतीय सोपान के शुभारंभ समारोह को संबोधित करते हुए कही। 


उन्होंने कहा कि प्रदेश में पर्यटन के क्षेत्र में रोजगार की अपार संभावनाएं हैं। देश में मध्यप्रदेश पहला राज्य है जहां पर्यटन कैबिनेट का गठन किया गया है और निवेशकों के अनुकूल पर्यटन नीति बनाई गई है। पर्यटन के क्षेत्र में निजी क्षेत्र को बढ़ावा दिया जा रहा है। प्रदेश में कहीं भी पर्यटन क्षेत्र में निवेश करने पर 15 से 40 प्रतिशत तक अनुदान मिलेगा जिसकी अधिकतम सीमा 10 करोड़ रूपये होगी। शासकीय भूमि पर स्थापित होने वाली पर्यटक परियोजना को मुद्रांक एवं पंजीयन शुल्क से मुक्त रखा गया है। प्रदेश में जल-पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये हनुवंतिया में प्रथम जल-महोत्सव किया गया था। आगामी जल-महोत्सव 15 दिसंबर 2016 से 15 जनवरी 2017 तक आयोजित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश की विकास दर पिछले आठ वर्ष से लगातार 10 प्रतिशत से अधिक है। प्रदेश की कृषि विकास दर लगातार चार वर्ष से 20 प्रतिशत से अधिक है। प्रदेश में सडक़,बिजली और पानी के क्षेत्र में बेहतर अधोसंरचना उपलब्ध है। पर्यटन लोगों को सुख और सुकून देने का सशक्त जरिया है। मध्यप्रदेश पर्यटन का श्रेष्ठ डेस्टिनेशन है। प्रदेश में धार्मिक, आध्यात्मिक, वन्य-प्राणी, हेरिटेज और साहसिक पर्यटन की विविधताएं उपलब्ध हैं। 

राज्य पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष तपन भौमिक ने स्वागत भाषण में कहा कि मध्यप्रदेश को लगातार पाँच वर्ष से सर्वश्रेष्ठ पर्यटन राज्य का पुरस्कार मिला है। प्रदेश के पर्यटन स्थलों को विश्व स्तर पर प्रचारित किया जायेगा। राज्य पर्यटन पुरस्कारों के माध्यम से पहली बार पर्यटन क्षेत्र में बेहतर काम करने वालों को प्रोत्साहित किया जा रहा है।

राज्य पर्यटन विकास निगम के प्रबंध संचालक हरिरंजन राव ने प्रदेश में पर्यटन की संभावनाओं और अवसरों पर केन्द्रित प्रेजेंटेशन दिया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री द्वारा बाइसन रिसॉर्ट मड़ई और सागौन रिसॉर्ट देलावाड़ी का वर्चुअल लोकार्पण किया गया। 

  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • captcha
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें,हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।