राज्यों से
पांचवे दिन भी पुलिस के हाथ खाली, दुबारा पोस्टमार्टम के इंतजार में
title=

जोधपुर। शुक्रवार की रात्रि को भोपालगढ थानान्तर्गत कुड़ी गांव में तालाब के पास रक्तरंजित मिली मासूम की लाश के प्रकरण में पुलिस के हाथ पांचवे दिन भी खाली है। पुलिस और प्रशासन के अधिकारी पांच दिन से भोपालगढ अस्पताल की मोर्चरी में पड़े मासूम के शव को परिजनों को अंतिम संस्कार के लिये सौंप कर अपने ऊपर आयी हुई इस बला को टालने में जुटे हुए जबकि परिजन इस मामले के खुलासे के बाद ही शव उठाने को डटे हुए है। पुलिस ने हत्या के कारणों की जांच के लिये चौथे दिन सोमवार को भोपालगढ अस्पताल के चार डाक्टरों के बोर्ड से बच्चे का पोस्टमार्टम करवाया लेकिन पोस्टमार्टम के बाद आयी प्रारंभिक रिपोर्ट के बाद परिजनों ने इस पोस्टमार्टम पर ही शक जाहिर करते हुए दुबारा दूसरे बड़े अस्पताल के डाक्टरों की टीम से पोस्टमार्टम होने के बाद ही शव उठाने के लिये तैयार है। पुलिस और प्रशासन की ओर से आज फिर पोस्टमार्टम करवाने के लिये पीपाड़ सिटी एसडीएम कोर्ट में दरख्वास्त लगायी गई है। कोर्ट के आदेश के बाद ही आगामी पोस्टमार्टम की कार्यवाही संभव हो सकेगी।

उप अधीक्षक बिलाड़ा सेठाराम बंजारा ने बताया कि भोपालगढ़ थाने के कुड़ी गांव निवासी रविन्द्र पुत्र नेमीचंद ब्राह्मण की लाश तालाब के पास रक्तरंजित हालत में 16 सितम्बर को मिलने की सूचना पर उसी दिन मौके पर पहुंची थी और उसी दिन मौका हालात के आधार पर पुलिस ने मृतक के पिता की रिपोर्ट पर तीन लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की थी। पुलिस ने शनिवार सुबह तक तीनो आरोपियों को राउंड अप भी कर लिया लेकिन परिजन और गांववासी पुलिस की कार्यप्रणाली से संतुष्ट नहीं थे और उन्होंने पहले हत्याकांड का खुलासा और राउंडअप किये हुए आरोपी दोषी नहीं है तो दोषियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर थाने के बाहर धरना शुरू कर दिया। शनिवार से चल रहा धरना और प्रदर्शन सोमवार शाम तक जारी था और इस दौरान पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों की समझाइश पर परिजन बोर्ड से पोस्टमार्टम के लिए तैयार भी हो गये। लेकिन शाम तक पोस्टमार्टम की प्रारंभिक रिपोर्ट में बच्चे की मौत को लेकर दी गई संदेहास्पद जानकारी के बाद परिजन और प्रदर्शनकारी आक्रोशित हो गये और उन्होंने शव लेने की बजाये किसी दूसरे बड़े अस्पताल में वरिष्ठ डाक्टरों के बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाने की मांग की। पुलिस का दावा है कि उनकी प्रारंभिक जांच और पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद यह मामला जो बताया जा रहा है वह बन नही रहा है। जबकि परिजनों और गांव वालों का कहना है कि पूर्व में भी राउंड अप किये गये आरोपियों से मृतक के परिजनों से झगड़ा हुआ था और उस वक्त राजीनामा के बाद भी आरोपियों ने उनको देख लेने की धमकिया दी थी।
  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • captcha
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें,हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।