कारोबार
मैक्स लाइफ का मैक्स फाइनैंशियल में एकीकरण के बाद एचडीएफसी लाइफ के साथ होगा विलय, अगले 12 महीने में सौदा पूरा होने की उम्मीद
title=

 मुंबई। एचडीएफसी लाइफ और मैक्स लाइफ इंश्योरेंस ने विलय योजना के तहत शेयरों की अदला-बदली के अनुपात की आज घोषणा कर दी। प्रस्तावित विलय एक साल में होने की उम्मीद है। मैक्स फाइनैंशियल सर्विसेज की बीमा इकाई मैक्स लाइफ का प्रवर्तक कंपनी में विलय हो जाएगा। शेयरधारकों को मैक्स लाइफ के प्रत्येक 4.98 शेयरों के बदले मैक्स फाइनैंशियल का एक शेयर दिया जाएगा। इसके बाद जीवन बीमा कारोबार को एचडीएफसी लाइफ में विलय कर दिया जाएगा और मैक्स फाइनैंशियल सर्विसेज (मैक्स लाइफ में विलय के बाद) के शेयरधारकों को मैक्स फाइनैंशियल के प्रत्येक शेयर के बदले एचडीएफसी लाइफ के 2.33 शेयर मिलेंगे। विलय के बाद बनने वाली इकाई का मूल्यांकन करीब 65,000 करोड़ रुपये होगा। मूल्यांकन और शेयरों की अदला-बदली अनुपात के मुताबिक एकीकृत इकाई में एचडीएफसी लाइफ का मूल्यांकन 69 फीसदी और मैक्स लाइफ का 31 फीसदी होगा। 

जून 2016 को मैक्स फाइनैंशियल सर्विसेज और मैक्स लाइफ ने एचडीएफसी लाइफ के साथ विलय के बारे में करार किया था। इस समझौते के तहत मैक्स लाइफ का विलय मैक्स फाइनैंशियल सर्विसेज में किया जाना है और फिर एकीकृत इकाई का विलय एचडीएफसी लाइफ में किया जाएगा। मैक्स फाइनैंशियल सर्विसेज पहले से ही शेयर बाजार में सूचीबद्घ है, ऐसे में एकीकृत इकाई खुद-ब-खुद सूचीबद्घ हो जाएगी और इसके लिए एचडीएफसी लाइफ को अलग से आईपीओ लाना नहीं पड़ेगा। मैक्स समूह के संस्थापक और सेवानिवृत्त चेयरमैन अनलजीत सिंह ने कहा कि इस विलय के बाद यह निजी क्षेत्र में सबसे बड़ी बीमा कंपनी होगी। इस सौदे के तहत सिंह और उनके परिवार को गैर-प्रतिस्पर्धी शुल्क के तौर पर 501 करोड़ रुपये मिलेंगे, जिनका भुगतान सौदे के पूरा होने के बाद किया जाएगा। सिंह अगले चार साल तक जीवन बीमा कारोबार शुरू नहीं कर सकेंगे। प्रवर्तकों को तीन समान किस्तों में 349 करोड़ रुपये का भी भुगतान किया जाएगा। 
हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनैंस कॉरपोरेशन के चेयरमैन दीपक पारेख ने कहा कि यह सौदा अगले 12 महीनों में पूरा होने की उम्मीद है। स्टॉक एक्सचेंज को दिए बयान में मैक्स फाइनैंशियल सर्विसेज और एचडीएफसी ने कहा कि उनके निदेशक मंडलों ने इस सौदे को मंजूरी दे दी है। उनके संयुक्त उपक्रम साझेदारों मित्सुई सुमितोमो इंश्योरेंस और स्टैंडर्ड लाइफ ऑफ यूके ने भी इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। सिंह ने कहा कि मैक्स लाइफ छोटी कंपनी का अधिग्रहण कर सकती है और कंपनी के बेहतर परिचालन पर ध्यान देगी, जिससे यह एक आदर्श ब्रांड बन सके। विलय के बाद एकीकृत इकाई में एचडीएफसी के पास 42.5 फीसदी, मैक्स फाइनैंशियल के पास 6.5 फीसदी, स्टैंडर्ड लाइफ के पास 24.1 फीसदी और मित्सुई सुमितोमो के पास 7.8 फीसदी हिस्सेदारी होगी। इसके साथ ही ऐक्सिस बैंक सहित अन्य शेयरधारकों के पास कंपनी की 19.1 फीसदी हिस्सेदारी होगी। ऐसे में एकीकृत इकाई में विदेशी शेयरधारिता 41.5 फीसदी होगी। एकीकृत इकाई के प्र्रबंधन में करीब 1.1 लाख करोड़ रुपये की संपत्तियां होंगी।
  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • captcha
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें,हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।