राज्यों से
भाई को बचाने 60 फीट गहरे कुएं में कूदी 13 साल की ये लड़की
title=

बाड़मेर।

बहन अपने भाई को बचाने के लिए 60 फीट गहके कुएं में कूद गई। उसने न केवल भाई की जान बचा ली, बल्कि सभी को सबक भी सिखा दिया कि यदि जज्बा हो तो कोई काम कठिन नहीं। बहादुरी का परिचय देने वाली बालिका के फ्रेक्चर भी हो गया।  बाड़मेर के उडंखा की एक ढाणी की यह घटना है, जहां महज 13 साल की बालिका मंजू ने अपने 4 साल के भाई को बचाकर यह बहादुरी का काम किया है।  ढाणी में कुएं के पास यह 4 साल का बच्चा खेल रहा था।

अचानक उसका पैर फिसल गया और वह कुएं में गिर गया।  घर में दो बहनों के अलावा कोई नहीं था। काम कर रही बड़ी बहन ने जब गिरने की आवाज सुनी तो वह बाहर की ओर भागी। उसने अपनी नजर इधर-उधर दौड़ाई और कुएं के पास पंहुची। उसने देखा कि उसका भाई कुएं में गिरा हुआ है। वह डूब रहा है। उसने आव देखा न ताव और भाई को बचाने कुएं में छलांग लगा दी। छोटी बहन यह देख हक्का-बक्का रह गई। वह कुएं से करीब आधा किलोमीटर दूर ढाणी में पहुंची और हल्ला मचा दिया। कुछ ग्रामीण कुएं के पास पहुंचे। कुएं में मंजू अपने भाई को कंधों पर रखकर तैर रही थी। पानी उसके मुंह तक आ चुका था। वह कुएं में हाथ पैर हिला रही है। ग्रामीणों ने रस्सी के सहारे एक युवक को कुएं में उतारा। युवक कुएं में उतरा और उसने मंजू को रस्सी से बांधा। बाहर निकलने को कहा तो मंजू ने कहा कि पहले उसके भाई को बाहर निकालो। युवक ने समझाया तो मंजू मान गई और पहले रस्सी के सहारे उसे बाहर निकाल लिया गया, फिर बच्चे को युवक पुरखराम ने सीने से बांधकर बाहर निकाल लिया।

  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • captcha
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें,हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।