उत्तरप्रदेश
इलाहाबाद के सोरांव विधानसभा सीट के लिए दिलचस्प रहेगा दंगल
title=

 इलाहाबाद़, (हि.स.)। जिले के सोरांव विधानसभा सीट की चुनावी दंगल देखने लायक रहेगी। सपा-बसपा एवं कृष्णागुट अपना दल ने तो अपना प्रत्याशी घोषित कर चुके हैं। लेकिन कांग्रेस व भाजपा ने अभी अपना प्रत्याशी घोषित नहीं किया है। विधानसभा सोरांव में कुल तीन लाख साठ हजार एक सौ छियानबे मतदाता हैं, जिसमें सबसे अधिक मतदाता पटेल वर्ग का है। लगभग 60 हजार मतदाता पटेल हैं। करीब 50 हजार मुस्लिम मतदाता हैं। ब्राम्हण व क्षत्रीय को मिलाकर 30 हजार की संख्या है। वहीं, यादव मतदाता 35 हजार हैं। इसी तरह, पासी व हरिजन मिलाकर 35 हजार की संख्या में मतदाता हैं। 22 हजार मौर्या है। लगभग दस हजार धोबी मतदाता है। गुप्ता विरादरी लगभग दस हजार है। परिसीमन से पूर्व सोरांव की स्थिति कुछ और थी लेकिन लेकिन परिसीमन के बाद इस क्षेत्र की गणित ही बदल गई। बसपा पार्टी ने इस सीट से तीन बार जीत हासिल की है। सपा व भाजपा ने भी यहां जीत हासिल किया है। जनता दल से भोला सिंह ठाकुर विधायक रहे है। स्थानीय चुनावी रणनीतिकारों की माने तो इस क्षेत्र से कांग्रेस का विशेष जनाधार ही नहीं है। भाजपा के जनाधार में बढ़ोत्तरी भी हुई है। सपा के विधायक सत्यबीर मुन्ना पांच वर्ष तक रहे लेकिन चुनाव के बाद कोई आमजनता के बीच पकड़ नहीं बना सके और न ही इस क्षेत्र के मदताओं की मूलभूत सड़को का कोई मरम्मत नहीं कराया। जबकि इस क्षेत्र में जाने के बाद पता चला है कि इस क्षेत्र के विधायक ने कोई काम ही नहीं किया है। हालांकि अन्तिम दौर में वह कुछ स्थानों पर मीटिंग करके कुछ लोक लुभाने वादे किया और एक टंकी का उद्घाटन भी किया है। जातीय गठजोड़ की यदि बात की जाए तो बसपा से गीता पासी और सपा से सत्यवीर मुन्ना सपा पार्टी के मूल मतदाता यादव व मुस्लिम मतदातों के भरोसे मैदान में हैं लेकिन कुछ प्रतिशत मत दलितों का खींचने का प्रयास करेंगे। वहीं, कृष्णागुट ने अपना भरोसा अजय पासी पर जताया है उन्हें प्रत्याशी घोषित किया है लेकिन भाजपा व अपनादल का गठबन्धन हुआ तो भाजपा की मजबूती सीधे दिख रही है। कांग्रेस पाटी का इस क्षेत्र में कोई खास प्रभाव नहीं है।

  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • captcha
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें,हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।