दिल्ली
स्कूलों में नए दिशा-निर्देशों के तहत प्रवेश प्रक्रिया शुरू
title=

नई दिल्ली, (हि.स.)। राष्ट्रीय राजधानी में डीडीए और सरकारी भूमि पर चल रहे 285 निजी स्कूलों के लिए दिये गए नए दिशा-निर्देशों के बाद सोनवार से इन स्कूलों में इसके तहत दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। स्कूल सोमवार को इस सिलसिले में घोषणा करेंगे। निदेशालय के दिशा-निर्देशों के अनुसार इन स्कूलों में दाखिले के लिए पड़ोस में रहने वाले बच्चों और सिबलिंग को प्राथमिकता दी जाएगी। इसके साथ ही डीडीए भूमि पर चल रहे निजी स्कूलों के लिए जारी नए दिशा-निर्देशों को लेकर अधिकतर स्कूलों के प्रबंधन सोमवार को बैठक करेंगे। स्कूलों का मानना है कि सरकार ने स्कूलों के अधिकारों और स्वायत्तता पर कुठाराघात किया है। इस बैठक में आगे की रणनीति पर फैसला किया जाएगा। एक्शन कमेटी के अध्यक्ष एसके भट्टाचार्य ने बताया कि वह एक दो दिन में कमेटी के अन्य सदस्यों के साथ बैठक कर आगे की रणनीति का खुलासा करेंगे। निजी स्कूलों में आर्थिक रूप से कमजोर (ईडब्ल्यूएस) और वंचित वर्ग के लिए 25 प्रतिशत सीटों के लिए भी सोमवार को ही दिशा-निर्देश जारी किए जा सकते हैं। निदेशालय के अधिकारियों के अनुसार इन वर्गों के लिए भी दिशा-निर्देश तैयार हो चुके हैं। पिछले साल की तरह ईडब्ल्यूएस वर्ग के बच्चों के प्रवेश के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया अपनाई जाएगी। नए दिशा-निर्देशों में एक, तीन और छह किलोमीटर दूरी तक रहने वाले बच्चों को पहले प्रवेश देने की बात कही गई है। अभिभावकों में इसको लेकर काफी असमंजस है कि आखिर स्कूल दूरी का निर्धारण कैसे करेंगे। सीधा नापेंगे या वर्ग किमी के अनुसार दूरी नापी जाएगी। नर्सरी एडमिशन के जानकार सुमित वोहरा के अनुसार ऐसे बहुत सारे अभिभावकों के सवाल आ रहे हैं। वहीं निदेशालय का कहना है कि जैसे हम ईडब्ल्यूएस के लिए एरियल दूरी का इस्तेमाल करते हैं, वही स्कूलों को करना चाहिए। निदेशालय की ओर से अभी तक डीडीए भूमि पर चल रहे स्कूलों की संख्या 298 बताई गई है। हालांकि कुछ अभिभावकों का कहना है कि 298 की सूची में जो स्कूल नहीं हैं उन्होंने भी अभी तक प्रवेश शुरू नहीं किया है। हालांकि शिक्षा निदेशालय का कहना है कि यह सूची लगभग पूरी है। इसमें चार-पांच स्कूल घट-बढ़ सकते हैं।

  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • captcha
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें,हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।