दुनिया
तुर्की की ससंद में संविधान के नये मसौदे पर चर्चा शुरू
title=

 इस्तांबुल, एएफपी। राष्ट्रपति की शक्तियों को बढ़ाने के उद्देश्य से तैयार किये गये संविधान के एक नये और विवादास्पद मसौदे पर तुर्की की संसद में चर्चा आज से शुरू हो गई। ऐसी संभावना है कि वसंत तक इस मसैादे पर जनमत संग्रह कराया जा सकता है। नया संविधान वर्ष 1980 में सैन्य तख्तापलट के बाद बने बुनियादी कानून को बदल देगा। नये संविधान का उद्देश्य तुर्की में पहली बार राष्ट्रपति प्रणाली स्थापित करना है। आलोचकों का दावा है कि यह कदम जुलाई में हुये तख्तापलट के विफल प्रयास के मद्देनजर राष्ट्रपति रेसेप तैयीप एर्दोगन द्वारा सत्ता पर पकड़ मजबूत करने और केंद्रीकृत शासन स्थापित करने के उद्देश्य से उठाया गया है। हालांकि एर्दोगन और सत्तारूढ़ जस्टिस एंड डेवलेपमेंट पार्टी :एकेपी: का कहना है कि यह प्रणाली तुर्की को फ्रांस और अमेरिका जैसे देशों की पंक्ति में लाकर खड़ा कर देगी और यह प्रभावी शासन के लिए जरूरी है। 

  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • captcha
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें,हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।