देश
समृद्धि मार्ग से होगा औरंगाबाद व जालना के उद्योगों का बड़े पैमाने पर विकास:सीएम
title=
मुंबई।
 
 राज्य के मुखिया देवेन्द्र फणनवीस ने लघु उद्योगों के संगठन द्वारा आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए औरंगाबाद में कहा कि नागपुर-मुंबई समृद्धि मार्ग का सबसे अधिक फायदा औरंगाबाद व जालना के उद्योगों के अलावा मराठवाड़ा को होगा। इस महामार्ग के निर्माण के लिए सभी के सहयोग की जरुरत है। समृद्धि मार्ग से औरंगाबाद के उद्योजक सिर्फ 5 से 6 घंटों में अपना माल मुंबई पहुंचा पाएंगे। लघु उद्योगों के संगठन मसिआ द्वारा शहर के कलाग्राम में आयोजित एंडवांटेज महाराष्ट्र एक्सपो का उद्घाटन मुख्यमंत्री देवेन्द्र फणनवीस के हाथों किया गया।
 
 उद्घाटन के बाद अपने विचार में सीएम ने यह दावा किया कि नागपुर-मुंबई समृद्धि मार्ग का सबसे अधिक फायदा औरंगाबाद व जालना के उद्योगों के अलावा मराठवाड़ा को होगा। सीएम ने कहा कि समृद्धि का निर्माण जल्द होने पर औरंगाबाद व जालना के बीच बस रहे डीएमआईसी, जालना में निर्माण हो रहे ड्रायपोर्ट को सबसे अधिक लाभ होगा | इस महामार्ग के निर्माण से पूरे मराठवाड़ा का चेहरा बदलेगा। इस महामार्ग के निर्माण के बाद केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्रालय ने गैस, इंधन लाइन बिछाने के लिए हरी झंडी दिखाई है, जिससे संभाग का विकास आगामी 20 सालों में शीर्ष पर होगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता विधानसभा अध्यक्ष हरिभाउ बागडे ने की। मंच पर उद्योगमंत्री सुभाष देसाई, सांसद चन्द्रकांत खैरे, विधायक अतुल सावे, विधायक संजय सिरसाठ, विधायक इम्तियाज जलील, महापौर भगवान घडामोडे उपस्थित थे। इन्सपेक्टर राज किया गया खत्म गत कई सालों से महाराष्ट्र में अधिकारियों की लालफीताशाही जारी थी। उद्योजक द्वारा उद्योग खोलने के लिए जब एमआईडीसी में आवेदन करते तो वहां के अधिकारी उसे कई दस्तावेजों के अलावा विविध कारण दिखाकर परेशान करते थे। इन्सेपेक्शन के नाम पर उद्योगों को परेशान किया जाता था। सरकार ने गत 2 साल में इस मामले में गहराई से अध्ययन कर इन्सपेक्टर राज को खत्म कर दिया है। अब कंपनियों के इन्सपेक्शन के लिए इन्सपेक्टर को सुबह डयूटी पर आने पर किस कंपनी में जाना है, इसकी जानकारी ऑन लाइन मिलेगी। वहीं इन्सपेक्शन कुछ इलाकों में 3 साल, कुछ इलाकों में 2 साल तथा कुछ में 1 साल बाद किया जाएगा। इन्सपेक्शन करने के बाद कंपनी से लाई गई रिपोर्ट इन्सपेक्टर को 48 घंटे में वेबसाईट पर डालना होगा। सीएम ने एमआईडीसी के अधिकारियों को चेताया कि वह उद्योगों को उद्योग शुरू करने के लिए परेशान न करें। वरना, सरकार द्वारा कडी कार्यवायी की जाएगी। सीएम ने बताया कि उद्योगों द्वारा उद्योग शुरू करने के लिए एमआईडीसी में आवेदन करते ही उसे एनए के लिए एमआईडीसी में चक्कर काटने की जरूरत नहीं होगी। तय समयावधि में जिलाधिकारी उद्योगों को सनद सौंपेंगे, जिससे उद्योग बड़ी आसानी से अपने उद्योग शुरू कर रोजगार उपलब्ध करा पाएंगे। महाराष्ट्र सरकार डायनामिक सीएम फणनवीस ने दावा किया कि उनकी सरकार डायनामिक निर्णय ले रही है। 
सरकार द्वारा लिए गए निर्णय से अगर उद्योगों को कोई परेशानी हो रही है तो उसकी जानकारी वह सरकार को समझाकर दें। सरकार द्वारा लिए गए निर्णय को तत्काल बदला जाएगा। साथ ही प्लाट के अवैध बंटवारे पर भी रोक लगेगी। उन्होंने डीएमआईसी के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह जल्द स्थानीय उद्योगों के साथ बैठक कर सरकार द्वारा हाल ही में लिए गए निर्णय की जानकारी दे। विदेश में होती है औरंगाबाद के उद्योगों की प्रशंसा शहर के एमआईडीसी क्षेत्रों में छोटी कंपनियों द्वारा उत्पादित किया जाने वाला माल पूरे विश्व में पहुंचता है, जिससे औरंगाबाद सहित मराठवाड़ा का नाम पूरे विश्व में पहुंच रहा है। यह औरंगाबाद के उद्योगों के लिए गर्व की बात है। उन्होंने लघु उद्योगों के संगठन मसिआ द्वारा आयोजित एंडवांटेज महाएक्सपो के आयोजन पर संगठन की भूरी-भूरी प्रशंसा की। सीएम ने कहा कि गत 2 साल में पूरे राज्य में निवेश को लेकर चित्र बदला है। उद्योगों के क्षेत्र में जितना निवेश गत 2 साल में भारत में हुआ, उसका 50 प्रतिशत निवेश महाराष्ट्र में हुआ यह सरकार के लिए गर्व की बात है।
  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • captcha
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें,हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।