मेरठ
खेती की दुश्मन फफूंदी को मिटाएगा कृषि विभाग
title=

मेरठ। खेतों में खड़ी फसलों पर कहर बरपाने वाली फफूंदी को नष्ट करने के लिए कृषि विभाग ने कमर कस ली है। इसके लिए किसानों का भी सहयोग लिया जाएगा। इसमें फफूंदी जनित रोगों से बीज की बुआई के समय ही निपटने की योजना बनाई जा रही है। इसके लिए जरूरी रसायनों और कीटनाशकों पर कृषि विभाग किसानों को अनुदान भी देगा। खेतों में तैयार हो रही फसलों पर फफूंदी जनित रोगों का हमला होने के बाद इनसे निपट पाना बड़ा मुश्किल होता है। कंडुआ, करनाल बंट और झुलसा जैसे फफूंदी जनित रोगों से निपटने के लिए रसायनों का सहारा लिया जाता है लेकिन तब तक बहुत देर हो जाती है। इससे फसलों को नुकसान के साथ-साथ किसानों को आर्थिक नुकसान भी उठाना पड़ता है। अधिक खर्च होने के कारण अधिकांश किसान रसायनों का छिड़काव नहीं करते, जिससे यह रोग फसलों को अधिक नुकसान पहुंचाते हैं। फसलों को इन रोगों से बचाने के लिए शासन ने कृषि विभाग को युद्ध स्तर पर अभियान छेड़ने के निर्देश दिए हैं। हापुड़ के जिला कृषि रक्षा अधिकारी डॉ. सतीश मलिक ने बताया कि फफूंदी जनित रोगों से निपटने के बीज शोधन सबसे कारगर तरीका है। पोलिया की तर्ज पर चलेगा अभियानकृषि अधिकारियों ने बताया कि गेहूं में करनाल बंट और कंडुआ रोग से हर साल बड़ी फसल बर्बाद होती है। इसलिए पोलियो उन्मूलन की तर्ज पर इन रोगों के खिलाफ किसानों के साथ मिलकर अभियान छेड़ा जा रहा है। बीज शोधन कर इन रोगों पर पूरी तरह नियंत्रण पाया जा सकता है। इसके लिए ट्राइकोडर्मा, बैसियाना बेवेरिया, सूडोनोमास नामक बायोपेस्टीसाइड का इस्तेमाल करना चाहिए। इसके लिए किसानों को 50 फीसदी का अनुदान किया जा रहा है। बीज शोधन के लिए प्रयोग होने वाले थीरम और कारबंडाजाइम रसायनों पर भी अनुदान दिया जा रहा है। इस प्रयास के सकारात्मक परिणाम भी सामने आ रहे हैं।

  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • captcha
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें,हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।